Wednesday, 28 June 2017




हरियाणा साहित्य अकादमी द्वारा प्रकाशित मासिक 'हरिगंधा' का जून—17 व्यंग्य विशेषांक आज प्राप्त हुआ है। हरिगंधा की मुख्य संपादक अकादमी की निदेशक श्रीमती कुमुद बंसल है तथा इस अंक के अतिथि संपादक सुपरिचित व्यंग्यकार प्रेम जनमेजय हैं। विभिन्न पीढियों के पठनीय व्यंग्यों से समाहित यह अंक व्यंग्य का प्रतिनिधि संकलन बन गया है इसमें अपना भी एक शामिल है— प्रेम गली से गुजरते हुए। धन्यवाद कुमुद जी, प्रेम जनमेजय जी।

No comments:

Post a Comment